December 6, 2022
दूरबीन का अविष्कार किसने किया और कब किया ?

दूरबीन का अविष्कार किसने किया और कब किया ?

Durbin ka Avishkar kisne kiya :- दोस्तों आपने दूरबीन का उपयोग कभी ना कभी तो अवश्य किया होगा मगर क्या आपको मालूम है, कि दूरबीन का आविष्कार किसने किया था अगर आपका जवाब ना है। तो आप हमारे इस लेख को अवश्य पढ़ें क्योंकि इस लेख में हमने दूरबीन से जुड़ी हर एक बात पर टिप्पणी करके उसे पूर्वक बताया है। तो चलिए शुरू करते हैं इस लेख को बिना देरी किए हुए हैं।

दूरबीन का अविष्कार किसने किया था | Who invented the telescope in hindi

“Hans Lippershey” हेंस लिपरशी ने दूरबीन का अविष्कार किया था।

हेंस लिपरशी पेसे से एक Eyeglass maker थे और उन्हें सीसे का बहुत ज्ञान था। हेंस लिपरशी एक व्यपारी का पुत्र था। कुछ महत्वपूर्ण सूत्रों के हिसाब से दूरबीन का अविष्कार में Galileo Galilei का सबसे बड़ा योगदान है मगर दूरबीन का अविष्कार का पूरा श्रेय हेंस लिपरशी को दिया जाता है ।

दूरबीन का अविष्कार कब हुआ था।

दूरबीन का अविष्कार 17 वी शताब्दी 1608 में 25 सितम्बर को हुवा था। दूरबीन का अविष्कार हेंस लिपरशी ने खेल खेल में किया था। वैसे तो दूरबीन के अविष्कार में बहुत सारे लोग लगे हुवे थे मगर उस दौड़ में हेंस लिपरशी ने दूरबीन का अविष्कार कर (दूरबीन का अविष्कारक होने का श्रये अपने नाम दर्ज या पेटेंट करवाया और दूरबीन का अविष्कारक बन गए).

दूरबीन क्या है (What is telescope in hindi)

दूरबीन एक ऐसा यंत्र है जिस के सहयोग से हम दूर के चीज़ों को  पास और बड़ा देख सकते है। दूरबीन को अंग्रेजी में “Telescope” कहा जाता है। दूरबीन का उपयोग लोग 17 वी शताब्दी में आकाश में मौजूद खगोलीए  पिंडो के गतिविधियों को देखने के लिए किया करते थे। क्योंकि, दूरबीन में कुछ Optical lenses को इस तरह बनाया गया था कि ,

जिसमे दूर का ब्रम्हांड आपको 20 या 25 गुना पारदर्शी और नजदीक दिखने लगता था । इस यंत्र की खोज के बाद कई वैज्ञानिको ने कई सारे पिंडो और ग्रहों का चयन शुरू कर दिया। मगर समय के साथ इस मे काफी बदलाओ हुवा और आज इसका उपयोग अलग अलग कामो के लिए किया जाता है।

अब तो मार्केट में ऐसे ऐसे दूरबीन मौजूद है जिनके मदद से हम आँख से न दिखने वाले चीज़ों को भी बहुत बड़े बड़े देख सकते है और उनके बारे में जान सकते है। अब तो बॉर्डर पर जवान भी दूरबीन का उपयोग कर रहे है और उसके मदद से घुसपैठियों पर कड़ी नजर रख रहे है।

कई कई स्कूल में तो दूरबीन की मदद से बच्चों को सुक्ष्म पदार्थो को बड़ा कर के दिखाया जाता है और उनको उसके बारे में समझाया जाता है। तो कुछ इस प्रकार से दूरबीन है।

दूरबीन के कितने प्रकार है?

खास तौर पर दूरबीन के दो प्रकार है , जिस में से पहला का नाम है  (Refracting telescope ) अपवर्तन दूरदर्शी और दूसरा का नाम  है  (reflecting telescope) परवर्ती दूरदर्शी। इन दोनों का काम अलग अलग होता है।

1. परावर्ती दूरबीन

परावर्ती दूरबीन को अंग्रेजी में Reflecting telescope कहते है। इस दूरबीन में लेंस की जगह अभिदृश्य दर्पण यानि Mirror लगा होता है जो दूर के चीज़ों को देखने के लिए Electromagnetic spectrum के द्रश्य भाग का सहारा लेता है।

इस परवर्ती दूरबीन के पांच प्रकार होते है  – प्राइम फोकस दूरबीन , नेव्तोन दूरबीन , कैसेग्रेन दूरबीन, कौडे दूरबीन और ग्रिगोरीय दूरबीन। इन पांचो में आपको परावर्तक की सतह की आकृति भाग में परिवर्तन मिलेगा और इसका उपयोग थोड़े दूर के चीज़ों को देखने के लिए किया जाता है।

2. अपवर्तन दूरबीन

अपवर्तन दूरबीन को अंग्रेजी में “Refracting telescope” इस दूरबीन में Optical lens का प्रयोग किया जाता है, इसी वजह से इसे refractor भी कहा जाता है। अपवर्तन दूरबीन में आपको दो प्रकार देखने को मिलेंगे : पार्थिव दूरदर्शी और खगोलीय दूरदर्शी ।

इस प्रकार के दूरबीन को astronomical telescope भी कहाँ जाता है, और इस से चाँद, तारे, ग्रह, इत्यादि जैसे ज्यदा दूरी वाले चीज़ों को देखा जाता है।

दूरबीन का अविष्कार कैसे हुवा ?

हमने ऊपर के टॉपिक में जाना कि दूरबीन का अविष्कार किसने किया था और दूरबीन क्या है अब हम जानेंगे कि दूरबीन का अविष्कार कैसे हुवा तो चलिए शुरू करते है।

दूरबीन के अविष्कार होने के पीछे एक कहानी है। दूरबीन का अविष्कार खेल खेल में हुवा था। हमने आपको ऊपर में बताया है कि हेंस लिपरशी एक Eyeglass maker थे और उन्होंने उच्च गुडवक्ता वाले कई सारे Eyeglass बनाये थे।

एक बार की बात है जब हेंस लिपरशी अपने दुकान में कुछ लेन्सों के साथ मिलावट कर रहे थे। फिर उन्होंने कुछ लेंसों को एक साथ मिला कर के देखा तो सामने की वस्तु पहले से 3 गुना बड़ा दिखा रही थी  यह बात उस समय पर अविष्वसनीय थी।  फिर उन्होंने यह बात अपने बच्चों को बताया और उनको ऐसे खेलने के लिए बोला ।

Also Read :-

फिर कुछ दिनों के बाद उन्होंने लेन्सों को अच्छे तरह से डिज़ाइन कर के एक ऐसा यंत्र बनाया जीस में देखने से सामने की वस्तु पहले से 3 गुना बड़ा दिखाई दे रही थी। फिर उन्होंने इस अविष्कार को publicly पेस किया और इस को अपने नाम पर पेटेंट करवाया।

दोस्तों दूरबीन की बात जब Galileo Galilei के पास पहुची तब उन्होंने बिना देखे ही दूरबीन की कल्पना करने लगे क्योंकि उन्हें मालूम था यह बात लेंस के माध्यम से संभव है।

 फिर कुछ दिन बाद उन्होंने खुद से ही एक ऐसी दूरबीन की निर्माण की जिसके मदद से लोग दूर के किसी भी चीज या वस्तु को 20 या 25 गुना बड़ा देख सकते थे। फिर उन्होंने अपना यह यंत्र लोगो के बीच पेस किया और उस समय पर यह भी बहुत नाम कमाये मगर दूरबीन की खोज का पूरा श्रये हेंस लिपरशी को मिल चुका था और उन्होंने इसे अपने नाम पर पेटेंट भी करवा लिया था। तो कुछ इस प्रकार से दूरबीन का अविष्कार हुवा।

Watch this :-

Video Credit By :- MTL TV Youtube Chaneel
     [ अंतिम विचार ]

दोस्तों आशा करता हूं कि आपको मेरा यह लेख बेहद पसंद आया होगा और आप इस लेख के मदद से दूरबीन के आविष्कारक के बारे में जान चुके होंगे अगर आपको इस लेख में कहीं भी कोई भी दिक्कत हुइ होगी तो आप हमारे कमेंट बॉक्स में जरूर मैसेज कर के पूछे हमारी समूह आपकी मैसेज की रिप्लाई जरूर करेगी।

Also Read :-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *