August 18, 2022

क्रिकेट सट्टेबाजी में फैंसी और सेशन सट्टेबाजी क्या हैं और इसका इस्तेमाल कैसे किया जाता हैं।

क्रिकेट सट्टेबाजी करना आज एक लोकप्रिय और प्रसिद्ध काम बन चुका हैं। आज क्रिकेट खेल हो या कोई अन्य खेल हर गेम पर सट्टेबाजी करना काफी सरल हो चुकीं हैं यह हो भी क्यों न क्योंकि आज भारत में काफी सारी स्पोर्ट्स बैटिंग साइट और क्रिकेट बैटिंग साइट आ चुकीं हैं जो पूरी तरह सट्टेबाजी का व्यापार करती हैं। सट्टेबाज को हर एक सुविधा प्रदान कराती हैं जो किसी सट्टेबाजी करने के लिए जरूरी होता हैं। क्रिकेट सट्टेबाजी के अलग अलग स्वरूप देखने को मिलते हैं। जहां एक तरह भारतीय बैटिंग की ओर आकर्षित होते जा रहे हैं। वही इसपर सट्टेबाजी करने से काफी पैसा कमाया जा सकता हैं।

क्रिकेट बैटिंग में कुछ ऐसे शब्द हैं जो भारतीय को सट्टेबाजी करने से पहले जानने चाहिए हैं। आपने ‘खाया’, ‘लगाया’, ‘सेशन और ‘फैंसी’ जैसे शब्दों के बारे में नहीं सुना होगा, लेकिन भारतीय क्रिकेट सट्टेबाजी जनता हर दिन इन शब्दों का  इस्तेमाल करती है। किसी भी शब्द जाल की तरह, इन शब्दों को नए लोगों के लिए समझना थोड़ा सा मुश्किल हो सकता है। अगर आप क्रिकेट सट्टेबाजी में सेशन और  फैंसी  से अपरिचित हैं तो चलिए आपको बताते  सेशन और फैंसी क्या है साथ ही यह कैसे काम करती हैं।

क्रिकेट सट्टेबाजी में फैंसी

आपने फ़ुटबॉल या बास्केटबॉल जैसे खेलों में स्प्रेड सट्टेबाजी करने के बारे में सुना होगा। यह भी कुछ ऐसा है जो कुछ विशेष सट्टेबाज क्रिकेट पर पेश करते हैं, जैसे बेटवे इंडिया , बेट365 इंडिया और कई अन्य क्रिकेट सट्टेबाजी साइट । क्रिकेट स्प्रेड बेटिंग का वर्णन करने के लिए फैंसी क्रिकेट बेटिंग का इस्तेमाल किया जाता है जो एक स्थानीय शब्द है। बेस्ट भारतीय क्रिकेट बैटिंग साइट अलग अलग बैटिंग के प्रकार देते हैं।

फैंसी बैटिंग में रन विकेट आदि आते हैं। इसे दुनिया के कुछ हिस्सों में वर्चस्व (domination) सट्टेबाजी के रूप में भी जाना जाता है। कुछ लोग सेशन को करना ज्यादा पसंद करते हैं। सेशन और बाजार सट्टेबाजों द्वारा चलाए जा रहे मैच की बाधाओं से अलग हैं। जहां एक तरह फैंसी बैटिंग रन , विकेट आदि की तरह होता है और अलग अलग सेशन चलते हैं।

बहुत सारी प्रमुख क्रिकेट सट्टेबाजी साइटें हैं जहाँ आप विभिन्न खेलों और खिलाड़ियों से संबंधित जानकारी की जाँच कर सकते हैं। ये साइटें क्रिकेट पंटर्स को अपने पसंदीदा मैचों और खिलाड़ियों पर दांव लगाने से पहले बहुत सारी जानकारी प्राप्त करने की अनुमति देती हैं।

क्रिकेट स्प्रेड पर बेट कैसे लगाएं?

एक ‘ स्प्रेड ‘ और कुछ नहीं बल्कि परिणामों की एक श्रृंखला है जिसकी भविष्यवाणी की गई है। अगर आपको लगता है कि परिणाम की संभावना है तो आप स्प्रेड को ‘खरीदें’ लेकिन अगर आपको लगता है कि भविष्यवाणी नहीं होने वाली है तो आप स्प्रेड को ‘बेच’ दें।

इस प्रकार की बेटिंग में आप बहुत जल्दी बहुत सारा पैसा जीत और खो सकते हैं। इसमें आपके पास पैसा जीतने की संभावना होने के साथ साथ हराने की भी संभावना अधिक रहती हैं।

क्रिकेट के खेल में सेशन क्या होते हैं?

यह शब्द टेस्ट क्रिकेट से लिया गया है, जिसे खेल के सबसे पुराने प्रारूप के रूप में जाना जाता है। एक टेस्ट मैच में, खेल को तीन सेशन में बांटा गया है- लंच से पहले, लंच के बाद और चाय। यह परंपरा टेस्ट मैच के सभी पांच दिनों में व्यावहारिक रूप से निभाई जाती है। जब क्रिकेट के खेल में सट्टेबाजी सेशन की बात आती है, तो पंटर्स उन दृश्यों पर अपना दांव लगा सकते हैं जो किसी विशेष मैच के अगले ओवरों में होंगे। इससे चीजें बहुत दिलचस्प हो जाती हैं क्योंकि क्रिकेट के खेल में स्थितियां बहुत जल्दी बदल सकती हैं।

सेशन क्रिकेट सट्टेबाजी पंटर्स को आकर्षित कर रही है

सेशन क्रिकेट सट्टेबाजी क्रिकेट पंटर्स के लिए एक विशेष मैच के दौरान अपने दांव पर आकर्षक रिटर्न बनाने का एक बहुत अच्छा अवसर है। यदि कोई क्रिकेट पंडित सटीक भविष्यवाणी करता है, तो वह किसी विशेष खेल के अंत में कई मौकों पर आसानी से पैसा कमा सकता है। सेशन  क्रिकेट सट्टेबाजी पंटर्स को अंडरडॉग पर अपना दांव लगाने और खेल के दौरान अपने प्रदर्शन पर अच्छा रिटर्न अर्जित करने का मौका देती है।

एक क्रिकेट खिलाड़ी एक ही गेंद पर अपना दांव लगा सकता है या इंटरनेट के माध्यम से एक ओवर में कितने रन बनेंगे। वेबसाइट और मोबाइल एप्लिकेशन की एक विस्तृत श्रृंखला है जो आपको ऑनलाइन मैच सत्रों में रुचि लेने में मदद करती है। यह क्रिकेट पंटर्स को बहुत सारे अवसर प्रदान करता है जो निश्चित रूप से क्रिकेट के खेल पर अपने ज्ञान के स्तर के आधार पर भाग्य बना सकते हैं।

क्रिकेट में फैंसी और सेशन बेटिंग

यदि आप क्रिकेट के प्रशंसक हैं, तो आप सोच रहे होंगे कि खेल पर दांव कैसे लगाया जाए। सट्टेबाजी के कई विकल्प हैं जो आपके लिए उपलब्ध हैं, लेकिन आप सोच रहे होंगे कि क्रिकेट में सत्र और फैंसी सट्टेबाजी कैसे काम करती है। इन दो प्रकार के दांवों की मूल बातें यहां दी गई हैं। जब आप एक सेशन के दौरान टीम रन पर बेट लगाते हैं, तो आप अपनी टीम द्वारा बनाए गए रनों की संख्या पर दांव लगा रहे होते हैं। आपको याद रखना चाहिए कि कोई टीम कितने विकेट लेती है इससे कोई फर्क नहीं पड़ता, क्योंकि सभी ग्यारह बल्लेबाज कुल स्कोर में योगदान दे सकते हैं।

बेट लगाते समय, आपको हमेशा टीमों पर रिसर्च करना चाहिए। रिसर्च की जानकारी से  परिणाम, फॉर्म, और कुछ स्थानों में खिलाड़ी के प्रदर्शन का विवरण आपको किसी विशेष टीम पर दांव लगाने में मदद कर सकता है। हालाँकि, यदि आप लाइव सेशन सट्टेबाजी बाजार पर दांव लगाना चुनते हैं, तो आपको वास्तव में खेल देखना चाहिए। यह आपको खेल में पैटर्न की पहचान करने में मदद करेगा। अपने सट्टेबाजी के अनुभव के अलावा, आपको पता होना चाहिए कि खेल के लिए ऑड्स क्या हैं।

एक अन्य प्रकार का दांव ‘शीर्ष बल्लेबाज’ का दांव है। इस बेट में, आप दो खिलाड़ियों को चुनते हैं, और भविष्यवाणी करते हैं कि कौन मैच या सीरीज में अधिक रन बनाएगा। इस मामले में, सबसे अधिक रन बनाने वाली टीम को विजेता माना जाएगा। शीर्ष दो बल्लेबाजों का विजयी संयोजन मैच जीतेगा। यह थोड़ा अजीब हो सकता है, लेकिन एक क्रिकेट प्रशंसक के लिए यह एक बहुत ही आकर्षक दांव है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.